IPL
IPL

सभी धार्मिक स्थलों को लेकर योगी सरकार का फरमान, इन जगहों से हटाने का दिया निर्देश

लखनऊ: महाशिवरात्रि पर्व पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi government) ने सड़क किनारे बने सभी धार्मिक स्थलों (Religious Sites) को लेकर बड़ा फैसला लिया है। गृह विभाग ने यूपी भर में सड़क किनारे बने सभी धार्मिक स्थलों के नाम पर अवैध कब्जे को लेकर सभी मंडालायुक्तों और जिलाधिकारियों को सख्त निर्देश जारी किया है। निर्देश में कहा है कि सड़क किनारे बने सभी धार्मिक स्थलों (Religious Sites) हटाया जाए। सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को गृह विभाग ने गुरुवार को इस संबंध में निर्देश जारी करते हुआ कहा है कि 14 मार्च तक बताएं कि उन्होंने कितने धार्मिक स्थलों को अतिक्रमण से हटवाया है।

तत्काल हटाने का निर्देश

यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने सभी मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को पत्र में लिखा है कि माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों पर योगी सरकार ने ये निर्देश जारी किया हैं। इस पत्र में उन्होंने लिखा है कि, सार्वजनिक सड़कों, गलियों, फुटपाथों, सड़कों के किनारों, लेन आदि पर धार्मिक स्थल का निर्माण नहीं होना चाहिए इसपर तत्काल रोक लगाई जाये। इसके अलावा 1 जनवरी 2011 के बाद से बने सभी धार्मिक स्थल को तत्काल हटाने का निर्देश दिया। 1 जनवरी 2011 के पहले बने सभी धार्मिक संरचना के अनुयायियों द्वारा निजी भूमि पर स्थानांतरित किए जाएंगे।

ये भी पढ़ें : नाकारा Government की वजह से कचरा खाने को मजबूर हैं इस देश के लोग

शासन ने इन्हें सौंपी जिम्मेदारी

शासन ने अपने आदेश में कहा है कि 10.06. 2016 के बाद से संबंधित तहसीलों, जिलों के जिलाधिकारियों, उप जिलाधिकारियों तथा क्षेत्राधिकारियों, पुलिस अधीक्षक, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व जिले के संबंधित अधिकारी को इसकी जिम्मेदारी सौंपी है कि, सार्वजनिक सड़कों, गलियों, फुटपाथों, लेन आदि पर कोई धार्मिक संरचना या निर्माण कर के अतिक्रमण ना किया जाए। इन आदेशों की पालन करना जरुरी इसको नजर अंदाज करना माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों की अवमानना होगी, जो आपराधिक अवमानना मानी जाएगी।

ये भी पढ़ें : दिल्ली और महाराष्ट्र में Corona का कहर, क्या फिर से हो सकता है लॉकडाउन?

Related Articles

Back to top button