योगी सरकार का अहम फैसला, UP को Solar Energy Hub बनाने की तैयारी

पहली बार यूपी सरकार ( UP government ) युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर प्रदान करने जा रही है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के गांवों में सस्ती बिजली का उत्पादन करके पहली बार यूपी सरकार ( UP government ) युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर प्रदान करने जा रही है। इसके लिये राज्य को सोलर एनर्जी का सबसे बड़ा हब बनाने की तैयारी तेज हो गई है। सरकार का उद्देश्य सौर ऊर्जा के क्षेत्र में यूपी को देश के अग्रणी राज्यों में स्थापित करना है। सोलर एनर्जी उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए योगी सरकार ( Yogi Sarkar ) UP में 1535 मेगावाट की परियोजना पर मुहर लगा चुकी है।

7500 करोड़ रुपये के खर्च से आकार ले रही इन परियोजनाओं के जरिये राज्य सरकार प्रदेश में बिजली उत्पादन के क्षेत्र बड़ा परिवर्तन लाने की तैयारी में है। परियोजना को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने सौर ऊर्जा नीति के तहत सौर ऊर्जा इकाई स्थापना करने वालों को स्टाम्प शुल्क में शत-प्रतिशत छूट दी है। परियोजना के तहत 420 मेगावाट क्षमता की 24 सौर पावर परियोजनाएं संचालित की जा रही हैं। इसी का नतीजा है कि सौर ऊर्जा उत्पादन अब बढ़कर 74 मेगावाट हो गया है।

एक लाख 80 हजार सोलर पावर

राज्य सरकार से मिली जानकारी के अनुसार गांवों में सोलर पंपों से किसाने खेतों की सिंचाई करते दिखेंगे। यही नहीं सरकार गांव में 225 मेगावाट क्षमता के सोलर रूफटॉप स्थापित करने जा रही है। गांवों में खेतों की सिंचाई के लिये 18823 सोलर पम्प स्थापित किये जाने में तेजी लाई गई है। गरीब, ग्रामीण परिवारों के घरों में एक लाख 80 हजार सोलर पावर पैक संयंत्र की स्थापना से प्रदेश के गांव भी नए स्वरूप में नजर आने लगेंगे।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार की परियोजना का असर गांवों में दिखाई देने लगा है। कई गांवों के बाजारों व सड़क सोलर स्ट्रीट लाइटों से जगमगाना शुरू हो गई हैं। पंडित दीनदयाल उपाध्याय सोलर स्ट्रीट लाइ योजना के तहत ग्रामीण बाजारों में 25304 सोलर स्ट्रीट लाइटों की स्थापना की जानी है। इसके अलावा मुख्यमंत्री समग्र ग्राम्य विकास योजना में चयनित राजस्व ग्रामों में 13791 सोलर स्ट्रीट लाइट संयंत्रों की स्थापना होगी।

यह भी पढ़ें: Maharashtra के पूर्व गृह मंत्री के उपर FIR दर्ज, कई ठिकानों पर CBI का छापा

Related Articles

Back to top button