योगी ने की ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के लाभार्थियों से संवाद कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा

बता दे कि ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के तहत स्ट्रीट वेण्डर्स को 10,000 रुपए की धनराशि का ऋण उपलब्ध कराया जाता है. योजना के तहत ब्याज की धनराशि पर अनुदान का भी प्राविधान है.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अपने सरकारी आवास पर कल 27 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा वर्चुअल माध्यम से ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के लाभार्थियों से संवाद कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा की.

उन्होंने कहा कि पहली बार स्ट्रीट वेण्डर्स (रेहड़ी, खोमचा, ठेला आदि का संचालन करने वाले) जैसे गरीब व्यवसायियों के लिए इस प्रकार की योजना लागू की गई है. उन्होंने निर्देश दिए कि सभी कार्यक्रम स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए योजना के लाभार्थियों एवं अन्य प्रतिभागियों के बैठने की समुचित व्यवस्था की जाए.

उन्होंने निर्देश दिए कि लाभार्थी स्ट्रीट वेण्डर्स को डिजिटल पेमेण्ट व्यवस्था से जोड़ने के लिए उनका प्रशिक्षण कराया जाए. स्ट्रीट वेण्डर्स की ट्रेनिंग अभियान चलाकर सम्पन्न करायी जाए.

बता दे कि ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के तहत स्ट्रीट वेण्डर्स को 10,000 रुपए की धनराशि का ऋण उपलब्ध कराया जाता है. योजना के तहत ब्याज की धनराशि पर अनुदान का भी प्राविधान है.

बैठक के दौरान प्रमुख सचिव नगर विकास दीपक कुमार ने बताया कि ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ के लाभार्थियों से प्रधानमंत्री का संवाद कार्यक्रम प्रदेश के सभी 651 नगर निकायों में आयोजित किया जाएगा. उन्होंने अवगत कराया कि योजना के तहत 07 लाख से अधिक स्ट्रीट वेण्डर्स की पहचान की गई है. लगभग 6.40 लाख स्ट्रीट वेण्डर्स ने योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन किया है. लगभग 3.62 लाख स्ट्रीट वेण्डर्स का आवेदन स्वीकृत हो चुका है. उन्होंने कहा कि कल तक लगभग 03 लाख आवेदकों को ऋण वितरित कर दिया जाएगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में गरीब स्ट्रीट वेण्डर्स को ऋण उपलब्ध कराना एक बड़ी उपलब्धि है. उन्होंने ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ को सफल बनाने में बैंकों के योगदान की सराहना भी की. उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द 05 लाख स्ट्रीट वेण्डर्स के आवेदन स्वीकृति की प्रक्रिया पूर्ण की जाए.

इस अवसर पर नगर विकास मंत्री आशुतोष टण्डन, मुख्य सचिव आर के तिवारी, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई एवं सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण एवं बाल विकास व पुष्टाहार एस राधा चौहान, प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद वीना कुमारी मीना, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.

यह भी पढ़े: मेरठ : प्लास्टिक के बोरी में युवती का 15 टुकड़ों में मिला शव, सिर गायब

Related Articles

Back to top button