योगी की गोशालाओं की हालत बिगड़ी, तीन दिनों में 73 पशुओं की मौत

वाराणसी: सरकार की ओर से जगह-जगह खुलवाई गई अस्थायी गोशालाओं में दुर्व्यवस्था और बीमारी के चलते बीते तीन दिनों में 73 पशुओं की मौत हो गई है। इनमें सबसे अधिक जौनपुर में 40 मवेशी मरे हैं। मरने वाली ज्यादातर गायें हैं।जौनपुर के डोभी क्षेत्र के उमरी गांव की अस्थाई गोशाला में 143 पशु रखे गए थे, जिनमें तीन दिन के अंदर 24 पशु मर चुके हैं। इसके अलावा करंजाकला क्षेत्र के जगदीशपुर अकबर गांव में चार, मड़ियाहूं में एक, सतहरिया में चार पशुओं की मौत हो चुकी है और पांच बीमार हैं। प्रशासन 25 पशुओं की मौत की बात को स्वीकार कर रहा है, जबकि ग्रामीणों का दावा है कि मृत पशुओं की संख्या 40 से अधिक है।

आजमगढ़ के किशुनपुर के गोवंश आश्रय स्थल में गुरुवार को दिन में पशुओं पर मड़ई गिरने से आठ पशुओं की मौत हो गई और कई घायल हो गए थे। शुक्रवार को इनमें से पांच और शनिवार को भी सात मवेशियों ने दम तोड़ दिया। तीन दिन में कुल 20 पशुओं की मौत हो चुकी है। एडीओ पंचायत रामआशीष सिंह और ग्राम पंचायत अधिकारी इंदूप्रकाश राय ने बताया कि यहां सिर्फ 25 पशुओं को रखने की जगह है, लेकिन 150 पशु हैं। अब और पशुओं को नहीं लिया जा रहा है। इसके अलावा मिर्जापुर के टांडा में पांच, वाराणसी, गाजीपुर में दो-दो तथा बलिया, मऊ, भदोही, चंदौली में एक-एक मवेशी की मौत हो चुकी है।

Related Articles