असदुद्दीन ओवैसी पर चला योगी का हंटर, AIMIM प्रमुख पर कई धाराओं में मुकदमा दर्ज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ने का सपना देख रहे ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी का सीएम योगी सपना तोड़ रहे है। ऐसा तब हुआ जब बाराबंकी में पहले सभा करने की अनुमति नहीं दी गई, जब अनुमति मिली भी तो उनपर मुकदमा दर्ज हो गया। ओवैसी पर कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन और सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

बाराबंकी के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि कटरा मोहल्ला में असदुद्दीन ओवैसी के कार्यक्रम में कोविड-19 गाइडलाइंस का खुलेआम उल्लंघन किया गया, साथ ही सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के लिए भड़काऊ भाषण भी दिए गए। इस संदर्भ में चौकी इंचार्ज ने तहरीर दी थी, जिसके बाद शहर कोतवाली में ओवैसी और कार्यक्रम के आयोजक पर मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

समुदाय विशेष को भड़काने का आरोप

एसपी के मुताबिक, गुरुवार को कटरा मोहल्ला में ओवैसी ने भाषण में कहा था कि रामसनेही घाट में 100 साल पुरानी मस्जिद को तुड़वा दिया और वहां से उसका मलबा भी हटा दिया गया। लेकिन ये बात गलत है वास्तविकता से बिल्कुल परे है। ऐसा कहके उन्होंने एक समुदाय विशेष को भड़काने और सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का काम किया है।

इन धाराओं में दर्ज मुकदमा

उन्होंने ये भी बताया कि भाषण के दौरान ओवैसी ने प्रधानमंत्री मोदी और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भी अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया था। इसलिए चौकी इंचार्ज हरिशंकर साहू ने तहरीर दी। ओवैसी और आयोजकों पर कोरोना गाइडलाइंस का उल्लंघन करने और सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का केस दर्ज किया गया है। ओवैसी के खिलाफ धारा- 153ए, 188, 279 और 270 और महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

Related Articles