नदियों से युवा को मिलेगा रोजगार, विदेशी भी हुए मुरीद

0

रुद्रप्रयाग। उत्‍तराखंड पहाड़ों के साथ भारत के प्रमुख नदियों का केंद्र है। यहां से निकलकर ये नदियां लगभग उत्‍तर भारत के सभी मैदानी भागों को जीवन देती हैं। लेकिन एक नये शोध से सामाने आये है कि यहां कि ये दरियां रोजगार का भी सबसे उत्‍तम साधन है। इसे देखते हुए अब सरकार को नदियों से जुड़े खेलों को लेकर अलग से कार्ययोजना तैयार करने के विचार में लग गयी है। यह कथन कहा है नेशनल ओपन कयाकिंग प्रतियोगिता के प्रतिभागियों ने।

हालही में इस खास प्रतियोंगिता का आयोजन यहां पर किया गया है। इसमें भारत समेत कई देशों के खिलाड़ियों ने भाग लिया है। इसमें भारत के मित्र राष्‍ट्र देश नेपाल व अच्‍छा दोस्‍त रूस के खिलाड़ी भी हैं। राफ्टिंग व कयाकिंग के लिए अलकनंदा और मंदाकिनी नदी खेल प्रेमियों की सबसे पसंदीदा नदियां हैं। लेकिन मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पाने के कारण यह बड़े स्‍तर पर नहीं हो पाता है।

यह भी पढ़े-  बच्चों को डॉक्टर बनाने के लालच में 35 लाख रूपये की ठगी का शिकार हुआ यह परिवार

इसके बावजूद रुद्रप्रयाग में 22 नवम्बर से नदियों में कयाकिंग प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। स्यालसौड में आयोजित हुए कयाकिंग खेल प्रतियोगिता ने खिलाड़ियों का मन मोह लिया। वहीं इस खेल के प्रतियोगिता के समापन पर पहुंचे पहुंचे केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने कहा कि नदियां ही नहीं बल्कि हमारे पास तो साल के बारह महीनें रोजगार के संसाधन मौजूद हैं।

loading...
शेयर करें