शहरों की नौकरियां छोड़ ये नौजवान आए गांव संवारने

0

github2कानपुर। अपने गांव की मिट्टी उन्हें वापस खींच लायी है। उन्होंने गांव को दुर्दशा मुक्त करने का जज्बा जताया तो गांव वालों ने पढ़े लिखे होने के चलते अगले पांच सालों के लिए गांव के भविष्य की बाग़डोर उन्हें सौंप दी। महानगर से जुड़े कल्याणपुर विकास खण्ड इश्वरीगंज से आकाश वर्मा प्रधान बने हैं यह बीटेक हैं और अहमदाबाद की एक कम्पनी से नौकरी छोड़कर गांव की किस्मत बदलने आ गए। गांव वालों ने भी उन्हें जमकर समर्थन देकर गांव की बागडोर सौंप दी।

आकाश अब गांव के चतुर्मुखी विकास की बात कर रहे हैं। इसी तरह शिवली गांव को बदलने का सपना लेकर चुनाव लड़े पीएचडी धारक व आईआईटी कानपुर से सीनियर इंजीनियर पद से रिटायर हुए हरपाल सिंह को भी गांव वालों ने कमान सौंपी है। हरपाल सिंह का कहना है कि वह रूरल डेवलपमेंट पर काम कर रहे हैं।

गांवों में आने वाले धन का सदुपयोग नहीं हो पा रहा है। वह अब इसे ठीक करेंगे।इसी तरह चौबेपुर विकास खण्ड के पारा प्रतापपुर से बीएड सांतना सिंह जीती हैं। कालेज से निकलते ही वह गांव वालों की समस्याओं को लेकर खड़ी होती रहीं। अब चुनाव में जीतने के बाद विकास कराने का दावा कर रही हैं।

loading...
शेयर करें