रिसर्च : न सर्जरी न कोई दवा, बस एक टीका है आपके मोटापे का इलाज

0

वॉशिंगटन। मोटापा आज के युग की एक बड़ी समस्या है। दुनिया में 100 में 50 आदमी मोटापे का  शिकार है। इससे कई गंभीर बीमारियां भी होती हैं। इसी मोटापे को रोकने के लिए दुनिया का पहला टीका बनाने की मुहिम शुरू है। इस टीके का जो परिक्षण किया गया है उसके नतीजे काफी उत्साहजनक प्राप्त हुये हैं।

इस टीके का निर्माण तैयार कर रही ब्राश बायोटेक एलएलसी के कीथ हैफर ने इन टीकों का प्रयोग करने के लिए चूहों का प्रयोग किया गया। चूहों पर उन्होंने पेप्टाइड हॉरमोन और सोमाटोस्टेन से बनाए गए दो टीकों, जेएच17 और जे एच18 का परिक्षण किया।

सोमाटोस्टेन ग्रोथ हॉरमोन (जीएच) को रोकता है जबकि इंसुलिन इसे आगे बढ़ाता है। ये दोनों मिलकर चयापचय को बढ़ाते हैं और वजन कम हो जाता है। पशुविज्ञान और बायोटेक्नलॉजी के एक जर्नल के मुताबिक, परिक्षण से और बाद 6 छह सप्ताह के दौरान सभी चूहों को पूरी खुराक दी गई।

परीक्षण की शुरूआत में और परीक्षण के 22 वें दिन इन चूहों का टीकाकरण किया गया। पहला टीका लागाने के बाद चार दिन बाद ही चूहों के वजन में 10 फीसदी की गिरावट देखी गई। बाद में नतीजों से पता चला कि ग्रोथ हॉरमोन और इंसुलिन के स्तर में गिरावट आए बिना इन चूहों के वजन में खासी गिरावट आ चुकी थी। कीथ ने इस प्रयोग के बाद कहा कि इस अध्ययन से पता चलता है कि टीकाकरण के मोटापे का इलाज किया जा सकता है। इस खोज से दवाओं और सर्जरी के बिना भी मोटापे का इलाज किया जा सकता है।

 

loading...
शेयर करें