जमीनी विवाद के चलते युवक की गोली मारकर हत्या, एक हफ्ते में हत्या की तीसरी वारदात

अमेठी: जहां एक तरफ प्रदेश सरकार प्रदेश को अपराध मुक्त करने का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ अपराध थमने का नाम नहीं ले रहें है। मामला उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अमेठी (Amethi) जिला से आ रहा है जहां एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मृतक एक स्कूल में ड्राइवर की नौकरी करता था। बताया जा रहा हैं जमीनी विवाद के चलते हत्या को अंजाम दिया गया है। कुछ दिन पहले सोमवार को चुनावी रंजिश के चलते मोहनगंज इलाके में पूर्व प्रधान की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसके अगले दिन मंगलवार को एक युवक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। एक के बाद एक हुईं इन हत्याओं से इलाके में दहशत का माहौल बना हुआ है।

गुरुवार को संग्रामपुर थाना इलाके के भुलई गांव निवासी अवधनरेश सिंह का खून से लथपथ शव खेत में मिला। स्थानीय लोगों ने इस घटना की सूचना पुलिस को दी। उच्च अधिकारियों के साथ कई थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में लेकर छानबीन करने में जुट गयी। मृतक के घरवालों ने आरोप लगाया कि इलाके में रहने वाले लल्लू सिंह, ज्ञान सिंह और विक्रम सिंह ने तालाब की जमीन पर कब्जा कर रखा है। इसके बारे में कई बार शिकायत दर्ज कराई गई है। जिसके चलते इन लोगों ने हत्या की घटना को अंजाम दिया।

चार दिन में तीन हत्‍याएं

बता दें कि 25 जनवरी को मोहनगंज थाना क्षेत्र के मुकंद रमई गांव के पूर्व प्रधान जागेश्वर वर्मा (64) की देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सुबह नहर के किनारे जागेश्वर वर्मा का शव औंधे मुंह पड़ा देखा गया था। इस मामले में वर्तमान प्रधान और उनके घर वालों का नाम प्रकाश में आया था। ठीक दूसरे दिन अमेठी कोतवाली क्षेत्र के ग्राम पूरे पयासी मजरे नुवांवा में 30 वर्षीय युवक प्रेम दुबे पुत्र राजाराम दुबे की जमीन विवाद में आंगन में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। परिजनों ने चाचा पर हत्या का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें: ICU में भर्ती युवती से गैंगरेप, अस्पताल के दो कर्मचारियों पर लगा आरोप

Related Articles